मैं और मैरी तन्हाई

A beautiful piece of poetry from the song Yeh Kahan Aa Gaye Hum from the movie Silsila. The lyrics of the song have been written by the brilliant Javed Akhtar. The song is also especially good.

मैं और मैरी तन्हाई, अक्सर यह बातें करते हैं
तुम होती तो कैसा होता, तुम ये कहती, तुम वो कहती
तुम इस बात पे हैरान होती, तुम उस बात पे कितनी हंसती
तुम होती तो ऐसा होता, तुम होती तो वैसा होता 
मैं और मैरी तन्हाई, अक्सर यह बातें करते हैं

1 thought on “मैं और मैरी तन्हाई”

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: